Prince Publishers

Home           News           Entertainment           Contact           Change Language »»»           English           Portuguese

Thank You India

Thanx to All

Index of the Entertainment


Sponsored Link

इस फोटो में क्या लिखा है ? कॉमेंट में जरूर लिखे। सहमत है तो लाइक एवं शेयर जरूर कीजियेगा India


Advertisment

तीसरी बकरी । एक मजेदार हिंदी कहानी Inspirational hindi stories

पांचवी क्लास में दो विद्यार्थी थे।

उनका नाम था शाह और मोदी।

एक दिन जब स्कूल की छुट्टी हो गयी तब मोदी ने शाह से कहा, “दोस्त, मेरे दिमाग में एक आईडिया है!”

“बताओ-बताओ.. क्या आईडिया है?”

शाह ने एक्साईटेड होते हुए पूछा।

मोदी: “वो देखो, सामने तीन बकरियां चर रही हैं।”

शाह: “तो! इनसे हमे क्या लेना-देना है?”

मोदी: "हम आज सबसे अंत में स्कूल से निकलेंगे और जाने से पहले इन बकरियों को पकड़ कर स्कूल में छोड़ देंगे, कल जब स्कूल खुलेगा तब सभी इन्हें खोजने में अपना समय बर्वाद करेगे और हमें पढाई नहीं करनी पड़ेगी..”

शाह: “पर इतनी बड़ी बकरियां खोजना कोई कठिन काम थोड़े ही है? कुछ ही समय में ये मिल जायेंगी और फिर सबकुछ नार्मल हो जाएगा..”

मोदी: “हाहाहा.. यही तो बात है, वे बकरियां आसानी से नहीं ढूंढ पायेंगे, बस तुम देखते जाओ मैं क्या करता हूँ!”

इसके बाद दोनों दोस्त छुट्टी के बाद भी पढ़ायी के बहाने अपने क्लास में बैठे रहे और जब सभी लोग चले गए तो ये तीनो बकरियों को पकड़ कर क्लास के अन्दर ले आये।

अन्दर लाकर दोनों दोस्तों ने बकरियों की पीठ पर काले रंग का गोला बना दिया। इसके बाद मोदी बोला, “अब मैं इन बकरियों पे नंबर डाल देता हूँ। और उसने सफेद रंग से नंबर लिखने शुरू किये:

पहली बकरी पे नंबर 1,

दूसरी पे नंबर 2,

और तीसरी पे नंबर 4.

“ये क्या? तुमने तीसरी बकरी पे नंबर 4 क्यों डाल दिया?”

शाहने आश्चर्य से पूछा।



         

मोदी हंसते हुए बोला, “दोस्त यही तो मेरा आईडिया है, अब कल देखना सभी तीसरी नंबर की बकरी ढूँढने में पूरा दिन निकाल देंगे.. और वो कभी मिलेगी ही नहीं..”

अगले दिन दोनों दोस्त समय से कुछ पहले ही स्कूल पहुँच गए।

थोड़ी ही देर में स्कूल के अन्दर बकरियों के होने का शोर मच गया।

कोई चिल्ला रहा था, “चार बकरियां हैं, पहले, दुसरे और चौथे नंबर की बकरियां तो आसानी से मिल गयीं.. बस तीसरे नंबर वाली को ढूँढना बाकी है।”

स्कूल का सारा स्टाफ तीसरे नंबर की बकरी ढूढने में लगा गया.. एक-एक क्लास में टीचर गए अच्छे से तालाशी ली। कुछ खोजूवीर स्कूल की छतों पर भी बकरी ढूंढते देखे गए.. कई सीनियर बच्चों को भी इस काम में लगा दिया गया।

तीसरी बकरी ढूँढने का बहुत प्रयास किया गया, पर बकरी तब तो मिलती जब वो होती..! बकरी तो थी ही नहीं!

आज सभी परेशान थे पर शाह और मोदी इतने खुश पहले कभी नहीं हुए थे। आज उन्होंने अपनी चालाकी से एक बकरी अदृश्य कर दी थी।

इस कहानी को पढ़कर चेहरे पे हलकी सी मुस्कान आना स्वाभाविक है। पर इस मुस्कान के साथ-साथ हमें इसमें छिपे सन्देश को भी ज़रूर समझना चाहिए।

तीसरी बकरी, दरअसल वो चीजें हैं जिन्हें खोजने के लिए हम बेचैन हैं पर वो हमें कभी मिलती ही नहीं.. क्योंकि वो वास्तव में है ही नहीं!

और वो तीसरी बकरी है: "अच्छे दिन"  
To Be Continued .. »»» Fastest Fingers First  


YOUR AD HERE
Prince Publishers,
Mobile No
+91 94 26 56 38 11
N.B.: 1. Any suggestion/opinion is welcome.
2. For any trade inquiry the Publisher or the author may please be contacted.
Mr. Naresh Chauhan

Share and Send to your Group & Personally


 


Write Your Comment

Description इस फोटो में क्या लिखा है ? कॉमेंट में जरूर लिखे। सहमत है तो लाइक एवं शेयर जरूर कीजियेगा Inspirational hindi stories, प्रेरणादायक हिंदी कहानी, हिंदी कहानी संग्रह, कहानी, Akbar Birbal Ki Kahani, Life Changing story, Hindi short story, Hindi Novel, Hindi stories, India is beautiful country, India, love my country, I love India, I love you India, हिंदी कहानी बच्चों के लिए, कहानी kahaani, कहानी aami shotti bolchi, कहानी ही कहानी, हिंदी कहानी लेखन, कहानियां प्रचलित, प्रचलित कहानियां, कहानी कोश"



Key Word प्रेरणादायक हिंदी कहानी, हिंदी कहानी संग्रह, कहानी, Akbar Birbal Ki Kahani, Life Changing story, Hindi short story, Hindi Novel, Hindi stories, India is beautiful country, India, love my country, I love India, I love you India, हिंदी कहानी बच्चों के लिए, कहानी kahaani, कहानी aami shotti bolchi, कहानी ही कहानी, हिंदी कहानी लेखन, कहानियां प्रचलित, प्रचलित कहानियां, कहानी कोश

People like this week

Free Advertising 
Start Creating Your Own 
Ad Today !! 
With Prince Publishers 
Email : 
dhruvassociates66@gmail.com 
Mobile : 
+91 94 26 56 38 11 
+91 98 25 77 77 83

Index of the Entertainment



Google Search

Custom Search